logo

संकट में इंसान पड़ा है ! कोरोना यमराज बना है !!

Blog single photo

  चाहूंगा एक नज़र आपकी ! 

 जय मां दुर्गा ! कृपा करो अब !                       दुनिया दुख से जूझ रही है !!

   संकट में इंसान पड़ा है !                           कोरोना यमराज बना है !!

 सब छोड़ यही एक काम बचा है !                  कोरोना ने इतिहास रचा है !! 

खुद बचें और बचाएं कोरोना की मार से !           हाहाकार मचा है जग में !!

 बंद पड़े हैं राजमार्ग सब !                          बंद दुकान है ! बंद सड़क है !!           मिलना जुलना बंद है सबका !                   ऑफिस की जल्दी रहती थी सबको !! 

 कॉलेज जाना होता था बच्चों को !           बंद पड़े सब घर में केवल ! हाय कोरोना !!           हाय कोरोना !!!         

  ठेला रिक्शा बंद सवारी !                            बंद हुई सब मोटर गाड़ी !!

 दिनचर्या अब तो बदल चुकी है !                     सूरज निकला , सूरज डूबा !! 

   फर्क नहीं अब पड़ता है !                         खौफ यही बस केवल इतना !! 

 होगा खत्म अब कैसे कोरोना !                       तैयारी बहुत हुई है लेकिन !!                        फीका है सब काल के आगे !!! 

कलियुग की लीला देख रहे थे.                           हम सब अपने जीवन में !!          कुदरत की विनाश लीला,                              पढ़ते थे हम किताबों में !! 

सुनते थे चक्रवात , तूफान ,                          भूकंप , बाढ़ आदि के बारे में !!         सामना भी हुआ है कई बार इनसे !!! 

 मगर हम इतना डरे नहीं थे कभी !            आज कोरोना ने सबको भयभीत कर रखा है! 

राजा हो या महाराजा !                                    नेता हो या मंत्री !!                      डॉक्टर हो या इंजीनियर !                          वैज्ञानिक हो या प्रोफ़ेसर !! 

सबको आतंक सता रहा है कोरोना का !         जनता कर्फ्यू / लॉक डाउन !!                              नाम यही कोरोना है !!! 

मानो तो कुछ ठीक है लेकिन !                          ना माने तो फिर रोना है !! 

मास्क लगाकर / बार-बार हाथ धुल कर साबुन से / घर की साफ सफाई के साथ !! 

 पानी पीना गर्म ही पीना !                              धूप मिले तो अच्छा है !!

 नींबू का भी सेवन हितकारी होगा !                नमक फिटकिरी गर्म पानी के,                        साथ गलारा भी अच्छा है !!

रहना है हम सबको घर के अंदर !                  खाना-पीना और नहाना,                            इतना समझ में आता है !!

   लेकिन सब कुछ घर के अंदर ही,                 सोचो कैसे बीत रहे हैं दिन सबके                         और रातें सबकी !!                  वक़्त बड़ा ही जालिम है !                          वक़्त से आंख मिलाए कौन !! 

अब तो विश्वास यहीं पर रुकता है !                     देवी मां अब कृपा करें !! 

नववर्ष के नवरात्रि के प्रथम दिवस !             पूजा पाठ करें सब घर के अंदर रहकर !!

  दीया कपूर जलाए रखिए !                           आंगन फूल खिलाए रखिए !! 

  भागेगा कोरोना ! मर जाएगा को रोना !          सब बोलें - जय मां दुर्गा ! जय मां दुर्गा !! 

    तारकेश्वर मिश्र "जिज्ञासु"                    कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर  


footer
Top