logo

डिफेंस एक्सपो: पीएम ने तानी राइफल.. साधे एक के बाद एक कई निशाने !

Blog single photo

लखनऊ 6 फरवरी 2020 (एसएमएन)- उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11वें डिफेंस एक्सपो का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने अत्याधुनिक हथियारों की प्रदर्शनी का मुआयना किया और खुद भी शूटिंग का लुत्फ उठाया। उन्होंने वर्चुअल शूटिंग रेंज में एक के बाद एक कई निशाने साधे।

पीएम मोदी ने राजधानी लखनऊ में बुधवार को पांच दिवसीय डिफेंस एक्सपो-2020 का उद्घाटन किया और एयरफोर्स व आर्मी के हैरतअंगेज कारनामों का डेमो देखा। प्रधानमंत्री ने कहा कि रक्षा केक्षेत्र में भारत सैकड़ों वर्षों तक प्रमुख शक्तियों में रहा है लेकिन आजादी के बाद उस ताकत को बढ़ाने के गंभीर प्रयास नहीं हुए। हमारी रक्षा नीति आयात पर केंद्रित रही। भारत रक्षा उपकरणों का सबसे बड़ा आयातक देश बन गया।

दुनिया में आबादी और सेना में दूसरे नंबर पर आने वाले भारत का आयात लगातार बढ़ता जा रहा था। ऐसे में 50 खरब डालर अर्थव्यवस्था और लाखों लोगों को रोजगार देने का सपना कैसे देखा पूरा किया जा सकता था? 2014 के बाद से स्थितियां बदली हैं। पांच साल में व्यापार की सुगमता में अभूतपूर्व सुधार हुआ है। इसका लाभ रक्षा क्षेत्र को भी मिला है। हमारा मंत्र है, मेक इन इंडिया फॉर इंडिया एंड ऑल ओवर वर्ल्ड। इसके लिए दो प्रमुख आवश्यकताएं हैं,शोध एवं विकास और उत्पादन। शोध और विकास अब हमारी राष्ट्रीय नीति का प्रमुख अंग है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि डिफेंस और एयरोस्पेस के क्षेत्र में भारत अब अहम ताकत है। रक्षा के क्षेत्र में हमारी आत्मनिर्भरता भारतीय कोस्टल रीजन के लिए ही जरूरी नही है, विश्व मानवता के बड़े हिस्से को सुरक्षित रखने का जिम्मा भी हमारा है। पड़ोस के मित्र देशों को सुरक्षा देने का दायित्व भी हमारा है। इस चुनौती केलिए तैयार रहने की जरूरत है। रक्षा क्षेत्र में उत्पादन हमारी महत्वाकांक्षा नहीं है। यह किसी दूसरे देश के खिलाफ नहीं है।

defence expo

भारत की नीति रही है कि हमने पहले किसी के खिलाफ हथियारों का इस्तेमाल नहीं किया। आगे भी ऐसा करने की इच्छा नहीं है। आज ही नहीं, हमेशा से भारत विश्व शांति का भरोसेमंद पार्टनर रहा है। दो विश्व युद्धों में हमारी सीधी भागीदारी नहीं थी लेकिन हमारे हजारों सैनिक शहीद हुए। संयुक्त राष्ट्र की शांति सेना में भारत के 6 हजार सैनिक हैं। अफ्रीका में शांति स्थापना में भारतीय सेना की अहम भूमिका रही है। भारत, विश्व में डिफेंस और एयरोस्पेस का हब बनने की क्षमता रखता है।

defence expo

प्रधानमंत्री ने बुलेट प्रूफ केबिन में बैठकर एयर शो भी देखा।

footer
Top