logo

यूं ही दिल का तराना होता

Blog single photo

              -: मेरी महफिल :-


 काश!                                                 मैं अपनी महफिल का सयाना होता ।                                                                    

यूं ही अपने दिल का तराना होता ।

                        

ना किसी की मंजिल का बहाना होता ।

                         

बस यूं ही अपने दिल का तराना होता।

                             

 चलता जब अपनी महफिल में.                   तो ना किसी का ठिकाना होता ।

       

 बस सफलता का मेरे दिल में.                       यूं ही एक बहाना होता ।

                    

काश !                                                में कवि और लेखक में सयाना होता।         यूं ही बढ़ते रहने का एक बहाना होता ।

    मैं अपनी महफिल का सयाना होता ।   

आर्यन प्रजापति 

footer
Top